Copyrite © All copyrigts are reserved with Shiv Kumar Surya and sksurya.com
मैं हवा और पानी के बिना भले ही रह लूं , किन्तु गीतों के बिना एक पल भी नहीं.
Shiv Kumar Surya’s Lyrics:  Main characteristics 
जिस तरह फूलों में रंग के अतिरिक्त सुगंध का गुण स्वाभाविक रूप में मौजूद रहता है, मेरे गीतों की पृष्ठभूमि में संगीत स्वाभाविक रूप में साथ-साथ चलता है.”
थबीगमेSurya’sछLyrics: An Introduction
शिव कुमार सूर्य के गीत: एक नज़र में
- शिव कुमार सूर्य
- शिव कुमार सूर्य
Official Personal Website of Shiv Kumar Surya
Home About Publishes Work Lyricist Surya Photo Gallery Blog Contact
शिव कुमार सूर्य एक भाव प्रवण गीतकार हैं. उनके गीतों में भाव हैं, संवेदनाएं हैं जो मन को अनायास छू जाती हैं. उनमें सहज स्वभाविक रिदम है, संगीत है. ऐसा लगता  है मानो कोई पहाडी झरना कानो में रस घोल रहा हो. शिव कुमार सूर्य के गीतों में संगीतात्मकता का मूल कारण, संगीत से उनका आशिकाना लगाव एवं गहरी  रुचि है. इस सम्बन्ध में उनका कहना है - “जिस तरह फूलों में रंग के अतिरिक्त सुगंध का गुण स्वाभाविक रूप में मौजूद रहता है, मेरे गीतों की पृष्ठभूमि में संगीत स्वाभाविक रूप में साथ-साथ चलता है.” सूर्य के शब्दों से गुजरने का एहसास वैसा ही सुखद है जैसे सुरम्य वन प्रांतर में विचरण करते हुए पथिक अनायास वन्य पुष्पों की भावभीनी सुगन्ध से मन्त्रमुग्ध हो जाता है. हिन्दी सिनेमा के लिए लिखे उनके गीत दृश्यचित्र बनाने की अद्भुत क्षमता रखते हैं. ध्वन्यात्मकता, गतिमयता एवं सक्रियता इनके गीतों की अन्य मुख्य विशेषताएं हैं. संवेगजन्य प्रभाव के कारण अनायास होंठों पर चिपक जाने में समर्थ हैं.
Sample Lyrics Sample Lyrics